गोलीय दर्पण की परिभाषा क्या है? उत्तल दर्पण और अवतल दर्पण

गोलीय दर्पण की परिभाषा – किसी खोखले गोले को अगर काटे तो गोलीय दर्पण का निर्माण होता है। मतलब यह है की खोखले कटे हुए गोले को हम गोलीय दर्पण कहते है।

दर्पण के एक तरफ चांदी का लेप (पेस्ट) लगा होता है और दूसरी तरफ परावर्तक सतह का काम करती है।

गोलीय दर्पण के उपयोग

  • सूरज के प्रकाश किरणों को फोकसित करने के लिए
  • दूरदर्शी में उपयोग
  • वाहनों के साइड मिरर के रूप में
  • सजावट दर्पण के रूप में
  • दन्त दर्पण के रूप में

गोलीय दर्पण के प्रकार

गोलीय दर्पण के दो प्रकार होते है –

  1. उत्तल दर्पण (convex mirror)
  2. अवतल दर्पण (concave mirror)

उत्तल दर्पण (convex mirror)

ऐसा दर्पण जिसके उभरी हुई सतह से परावर्तन होता है उसे उत्तल दर्पण कहते है। ऐसे दर्पण में चांदी का लेप अंदर की तरफ मतलब धसे हुए हिस्से में लगा होता है।

यह दर्पण प्रकाश किरणों को अपसारित करता है मतलब किरणों को फैलता है।

उत्तल दर्पण का चित्र

अवतल दर्पण (convex mirror)

ऐसा दर्पण जिसके उभरी हुई सतह पर चांदी का लेप लगा होता है और अंदर की सतह से परावर्तन होता है उसे अवतल दर्पण कहते है। यह दर्पण प्रकाश की किरणों को अभिसारित करता है अर्थार्थ इकठ्ठा करता है।

अवतल दर्पण का चित्र , convex mirror
अवतल दर्पण का चित्र

शेयर करे – spherical mirror in hindi

Leave a Comment