विधुत क्षेत्र (vidhut kshetra)

वह क्षेत्र या प्रभाग जिसमे स्थित कोई आवेश अपनी स्थिति के अनुसार बल अनुभव करता है| उस आवेश का विधुत क्षेत्र कहते है |

परिक्षण आवेश

यह एक धनात्मक प्रकृति का आवेश होता है व इसका मान इतना अल्प होता है कि जिसके कारण मूल वैधुत क्षेत्र में कोई परिवर्तन नही होता है | परिक्षण आवेश को q0  से दर्शाते है |

विधुतक्षेत्र की तीव्रता

वैधुत क्षेत्र में स्थित किसी आवेश पर लगने वाला बल तथा परिक्षण आवेश q0 का अनुपात विधुतक्षेत्र की तीव्रता कहलाती है |इसे E से दर्शाते है | यह एक सदिश राशी होती है | इसका S.I. मात्रक वोल्ट/मीटर होता है |

विधुत क्षेत्र की तीव्रता का सूत्र

So read more

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here